हिन्दी सिनेमा की श्वेत-श्याम दुनिया

image

1950 के दशक में हिंदी फिल्में श्वेत-श्याम से रंगीन हुईं। इसके पहले हिंदी सिनेमा जगत रंगों से अछूता था, लेकिन सिनेमा की ब्लैक एंड व्हाइट दुनिया भी सिने प्रेमियों के दिलों पर छाई रहीं। श्वेत-श्याम से लेकर रंगीन फिल्मों के अब तक के दौर में हिंदी सिनेमा में बहुत परिवर्तन हुए और यह परिवर्तन फिल्म निर्माण के हर क्षेत्र में […]

» Read more

बॉलीवुड का पशु-पक्षी प्रेम

बॉलीवुड का पशु-पक्षी प्रेम

प्रकृति और उसकी प्रत्येक रचना मानव हदय को बरबस आकर्षित करती हैं। रंग बिरंगे फूल, पेड़ पौधे, पशु पक्षी यह सब हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग हैं। हम लोग अनेक प्रकार के पशु-पक्षियों को अपने आवश्यकता और शौक के लिए पालते हैं पशु पक्षियों के प्रति की गई सेवा हमें ना केवल मानसिक शांति देती है बल्कि इससे पशु […]

» Read more

अंदाज-ए -कव्वाली

कव्वाली

क़व्वाली संगीत की एक विधा है । हिंदी सिनेमा जगत में 1944 में पहली बार फिल्म ‘नाईट बर्ड’ के गाने ( हसीनों के लिए) में कव्वाली का अंदाज दिखा था ।धीरे-धीरे हिंदी फिल्मों में कव्वाली ने अपनी पैठ बना ली ,लेकिन समय के साथ जैसे – जैसे हिंदी फिल्मों में बदलाव हुआ , पारंपरिक क़व्वाली का स्वरुप भी बदलने लगा […]

» Read more

गाने नये-पुराने……मानसून स्पेशल

rain2-new

रिमझिम बारिश के सुहावने मौसम का एक अलग ही मजा होता है ।काले घने बादलों की गड़गड़ाहट दिल की धड़कन तेज कर देती है ।बारिश की बूंदों की छन-छन सुन ऐसा लगता है , जैसे बारिश ने नई दुल्हन की तरह ढेरों घुन्घुरुओं वाले पाजेब पहन लिए हों और प्रकृति ने दुल्हन के घूँघट की तरह हरियाली की ओढ़नी ओढ़ […]

» Read more

यादों के झरोखे से -मदन मोहन कोहली

मदन मोहन कोहली

सन् 1950 से 1970 तक के तीन दशको में संगीत की धूम मचाने वाले हिंदी सिनेमा के प्रख्यात  संगीतकार मदन मोहन कोहली का आज की ही तारीख़ 25 जून को जन्म हुआ था । अपने युवावस्था में यह एक सैनिक थे लेकिन फौजी वर्दी और जंग का मैदान इस संगीत प्रेमी को रास  न आया और इन्होनें वापस आकर लखनऊ का […]

» Read more
1 2 3