छाया गीत: प्रस्तुति ‘अमर कान्त दुबे’ की

आज १२ सितम्बर का छाया गीत प्रस्तुत किया गया विविध भारती सेवा के मशहूर उद्घोषक अमर कान्त दुबे द्वारा । तो आइये आनन्द लेते हैं इनकी पसन्द के कुछ गीत छायागीत कार्यक्रम से। इस कार्यक्रम मे निम्न लिखित गीतों का समावेश है: १. कहे झूम झूम रात ये सुहानी २. रात का शमां झूमे चन्द्रमा ३. रात ढलने लगी, बुझ […]

» Read more

छायागीत – रेकॉर्डिन्ग – ममता सिंह द्वारा प्रस्तुत

छायागीत विविध भारती सेवा के प्रसिद्ध कार्यक्रमों मे से है। ये रेकॉर्डेड कार्यक्रम प्रस्तुत किया है, रेडियो सखी ममता सिंह जी ने। ममता जी ये कार्यक्रम  मंगलवार को रात दस बजे प्रस्तुत करती हैं। 16 जून 2015  के इस कार्यक्रम मे जो गीत शामिल किये गये है वो इस प्रकार हैं आज मेरे मन मे सखी बाँसुरी बजाये कोई हुश्ने […]

» Read more
1 2 3