जय-माला : नितिन मुकेश द्वारा प्रस्तुत ।

फौजी दोस्तों को समर्पित जयमाला कार्यक्रम सुनिए ,जिसे प्रस्तुत किया है जाने-माने पार्श्वगायक नितिन  मुकेश ने। नितिन मुकेश महान  गायक मुकेश जी के बेटे हैं ।यह प्रोग्राम रेडियो पर 24/09/16 को प्रस्तुत किया गया था।  इस प्रोग्राम में सुनाये जाने वाले गीत इस प्रकार हैं: 1.हम उस देश के वासी हैं,जिस देश में गंगा बहती है 2.किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार […]

» Read more

छाया गीत – राजेन्द्र त्रिपाठी की प्रस्तुति

Chhaya Geet Rajendra Tripathi

छाया गीत की ये रिकार्डिंग कुछ दिनों पहले की है, राजेन्द्र त्रिपाठी जी ने ये कार्यक्रम प्रस्तुत किया। उन्होने कुछ बहुत ही मशहूर गीतों को इस कार्यक्रम मे शामिल किया है, जैसे – मैने पूछा चाँद से कि देखा है कहीं, मेरे यार सा हसीं ? तेरी नीली नीली आँखों के दिल पे तीर चल गये, ये देख के दुनिया […]

» Read more

भूल-बिसरे गीत (गुजरे जमाने के फ़िल्मी गीत)

गुजरे जमाने के फ़िल्मी गीतों का आनंद लेने के लिए सुनिए कार्यक्रम भूले-बिसरे गीत । इस कार्यक्रम का प्रसारण विविध भारती रडियो पर 22 सितम्बर 2016 , दिन बृहस्पतिवार को हुआ था । इस कार्यक्रम में प्रसारित गीतों का वर्णन : गीत                          फिल्म               […]

» Read more

जयमाला : गीतकार ‘भरत व्यास’ की प्रस्तुति ।

फौजी साथियों की सेवा में प्रस्तुत किया गया विशेष जयमाला कार्यक्रम, जिसके प्रस्तुतकर्ता हैं, प्रसिद्ध गीतकार भरत व्यास।भरत व्यास जी में बचपन से ही कवि प्रतिभा दिखने लगी थी। उनका लिखा पहला गीत था- आओ वीरो हिलमिल गाए वंदे मातरम। उन्होंने 17-18 वर्ष की उम्र तक लेखन शुरू कर दिया था।भरत व्यास जी ने कुछ फ़िल्मों में भी भूमिका निभाई थी […]

» Read more

छाया गीत: प्रस्तुति ‘अमर कान्त दुबे’ की

आज १२ सितम्बर का छाया गीत प्रस्तुत किया गया विविध भारती सेवा के मशहूर उद्घोषक अमर कान्त दुबे द्वारा । तो आइये आनन्द लेते हैं इनकी पसन्द के कुछ गीत छायागीत कार्यक्रम से। इस कार्यक्रम मे निम्न लिखित गीतों का समावेश है: १. कहे झूम झूम रात ये सुहानी २. रात का शमां झूमे चन्द्रमा ३. रात ढलने लगी, बुझ […]

» Read more
1 46 47 48 49 50 53