हिन्दी सिनेमा की श्वेत-श्याम दुनिया

1950 के दशक में हिंदी फिल्में श्वेत-श्याम से रंगीन हुईं। इसके पहले हिंदी सिनेमा जगत रंगों से अछूता था, लेकिन सिनेमा की ब्लैक एंड व्हाइट दुनिया भी सिने प्रेमियों के दिलों पर छाई रहीं। श्वेत-श्याम से लेकर रंगीन फिल्मों के अब तक के दौर में हिंदी सिनेमा में बहुत परिवर्तन हुए और यह परिवर्तन फिल्म निर्माण के हर क्षेत्र में […]

» Read more

बॉलीवुड का पशु-पक्षी प्रेम

प्रकृति और उसकी प्रत्येक रचना मानव हदय को बरबस आकर्षित करती हैं। रंग बिरंगे फूल, पेड़ पौधे, पशु पक्षी यह सब हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग हैं। हम लोग अनेक प्रकार के पशु-पक्षियों को अपने आवश्यकता और शौक के लिए पालते हैं पशु पक्षियों के प्रति की गई सेवा हमें ना केवल मानसिक शांति देती है बल्कि इससे पशु […]

» Read more

सुर-संगीत-वर्ल्ड म्यूजिक डे

संगीत में गायन,वादन और नृत्य का समावेश होता है ।इस दुनिया में शायद ही कोई इन्सान हो जिसे संगीत पसंद ना हो ।लेकिन हाँ सबको एक जैसा ही संगीत पसंद हो , यह भी जरुरी नहीं । सबके पसंदीदा संगीत का अपना-अपना मिजाज होता है । किसी को गजल पसंद होता है ,तो किसी को हलके-फुल्के प्यार भरे गीत ,कोई […]

» Read more

मुकेश जी की आवाज मे: न कजरे की धार, न कोई किया शृंगार

मशहूर गजल गायक, पंकज उदास का गाया फिल्‍म ‘मोहरा’ का गीत ‘न कजरे की धार’ लगभग सभी संगीत प्रेमियों ने सुना होगा। इसे संगीतबद्ध किया था विजू शाह ने। दरअसल गीतकार इन्‍दीवर ने यह गीत न केवल बहुत पहले लिखा; बल्कि कल्‍याणजी-आनन्‍दजी की मशहूर जोडी ने संगीतबद्ध‍ कर इसे मुकेश की आवाज में रिकॉर्ड भी कर लिया था। मुकेश जी का […]

» Read more

मुकेश जी के जन्म दिवस पर

आज हिन्दी फिल्मों के मशहूर पार्श्व गायक मुकेश कुमार जी का जन्म दिन है। विविध भारती सेवा की प्रसिद्ध उद्घोषक रेडियो सखी ममता सिंह जी ने लिखा है, आज है महान गायक मुकेश का जन्मदिन ….याद आ रहे हैं उनके अनगिनत गाने …कोई ऐसी अंत्याक्षरी नहीं होती जिसमे मुकेश के गीत न गाये जाते हों ….ख़ास तौर पर ये गाना […]

» Read more
1 2 3 4