याद करो कुर्बानी (स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या)

सन् 1947 में सैकड़ों वर्षों से गुलामी की जंजीरों में जकड़ा हुआ हमारा भारत देश आजाद हुआ था। यह आजादी उन लाखों लोगों के त्याग और बलिदान स्वरूप हमें मिला है, जिन्होंने देश के लिए अपना तन-मन-धन सब हँसते- हँसते न्यौछावर कर दिया। देश के उन महान सपूतों की आहुति की बदौलत ही आज हम स्वतन्त्र भारत में साँस ले […]

» Read more