यादों के झरोखे से – कॉमेडी किंग महमूद की पुण्यतिथि

हिन्दी सिनेमा में हास्य कलाकार के तौर पर पहचान बनाने वाले, अद्भुत अभिनय के मालिक महमूद (महमूद अली) साहब की आज 23 जुलाई को पुण्यतिथि है।कॉमेडी किंग महमूद

उन्होंने करीब 300 से ज्यादा सिनेमा में अपने अभिनय की रंगत दिखलाई। प्रारंभ में ये फिल्मों में छोटी-मोटी भूमिकाएं ही निभाते थे। बाद में उन्होंने कुछ मुख्य भूमिकाएं भी निभाई और कुछ हिट  फिल्मों जैसे- प्यार किए जा, प्यार ही प्यार, ससुराल, लव इन टोक्यो और जिद्दी से भी उनका नाम जुड़ा, लेकिन हिन्दी सिनेमा जगत में एक कॉमेडियन के रूप में उनको दर्शकों का प्यार और पहचान मिला।  महमूद ने अपने एक्टिंग कैरियर  की शुरुआत फिल्म सीआईडी से की। उन्होंने कई हास्य कलाकारों को फिल्मों में काम करने का मौका दिया, जिनमें जूनियर महमूद को उन्होंने अपना नाम और पहचान दी।  जूनियर महमूद के अनुसार, वो एक ऐसे एक्टर थे, जो दर्शकों को अपनी एक्टिंग से खूब हँसाते थे और खूब रुलाते भी थे।  उनके डायलॉग सुनकर अच्छे से अच्छे अभिनेता के भी पसीने छूट जाते थे।  वो जब भी फिल्म का कोई शॉट देते, किसी को पता नहीं रहता था कि वो अब क्या बोल देंगे और कैसे करेंगे। वो सब कुछ अपने तरीके और स्टाइल से करते थे। महमूद अकेले ऐसे हास्य कलाकार थे, जिनकी तस्वीर फ़िल्मी पोस्टर में हीरो के साथ रहा करती थी। फ़िल्म में कितना भी बड़ा हीरो क्यों न हो, दर्शक सिनेमाघरों में महमूद को देखने जाया करते थे।  डायरेक्टर को यह बात अच्छी तरह पता होती थी, कि अगर उसे अपनी पिक्चर हिट करनी है, तो महमूद को अपनी फ़िल्म में लेना ही होगा।  इसलिए कई फ़िल्मों में महमूद को काम मिला। हैरानी की बात यह थी कि उन्हें किसी ने कभी रिहर्सल करते नहीं देखा। वो जो भी करते थे, फिल्मों में लाइव किया करते थे। उस वक़्त महमूद को हीरो से ज़्यादा पैसे मिला करते थे। यह बात कई हीरो को पसंद नहीं थी। इसलिए वो यही कोशिश करते थे कि उनकी फिल्मों में निर्देशक और निर्माता महमूद को न लें। मगर ऐसा बहुत कम हुआ। महमूद बहुत ही नेक इन्सान थे। वे  कई परिवार वालों की चोरी-छिपे मदद भी किया करते थे। जिसे भी पैसों की ज़रूरत होती थी, उनके घर पैसे भिजवाते थे।

आइये सुनते हैं महमूद  की हिट फिल्म पड़ोसन का प्रसिद्ध गीत एक चतुर नार…….

महमूद के सुपर हिट गाने :